चंदौली जनपद के सभी गांवों में होलिका स्थापित, 28 मार्च को दहन

  • by Pavan Kumar Maurya
  • 12th March, 2021 04:10:49 pm

चंदौली: महाशिवरात्रि के दिन गुरुवार को सैयदराजा, नगर व आसपास के कई स्थानों पर पूजा पाठ के बाद विधिवत होलिका स्थापित की गई। आमतौर पर परंपरा है कि या तो वसंत पंचमी या फिर महाशिवरात्रि के दिन होलिका स्थापित की जाती है। विधि विधान से युवकों ने पूजा कर होलिका स्थापित की।

नगर व आसपास दो दर्जन से अधिक स्थानों पर होलिका स्थापित की गई। पूजा पाठ के उपरांत जमीन में गड्ढा खोदकर वहां कोई न कोई कटा अथवा सूखा पेड़ स्थापित किया जाता है। एक बार होलिका स्थापित होने के बाद रोज उसमें कुछ न कुछ वृद्धि की जाती है ताकि दहन वाले दिन तक होलिका अपने पूर्ण स्वरूप में दिखे। 
हालांकि प्रशासन ने नए स्थान पर होलिका स्थापित न करने का निर्देश दिया है। 28 मार्च को होलिका दहन होगा।

होली पर्व को लेकर अभी से लोग तैयारी में जुट गए हैं।  महाशिवरात्रि के अवसर पर क्षेत्र के सैयदराजा, मानिकपुर, भुजना, चंदौली, मुगलसराय, चकिया,  चौरहट, सेमरा, मढि़या, डांडी, बखरा सहित अन्य गांवों में होलिका स्थापित की गई। युवाओं की टोली ने विधि विधान से पूजा कर होलिका स्थापित की।

चंदौली


जंगली सुअरों ने कंदवा के मुड्डा गांव में व्यक्ति पर बोला हमला, जख्मी 

बरहनी (चंदौली) : कंदवा थाना क्षेत्र के मुड्डा गांव में जंगली सुअरों के हमले से दो युवक घायल हो गए। दोनों को निजी चिकित्सालय में भर्ती कराया गया। नदी के तटवर्ती इलाके के गांवों में जंगली सूकरों का हर समय डर बना रहता है। ग्रामीणों का कहना है कि जंगली सुअर मटर, चना, मसूर, गेहूं, आलू ,गन्ना आदि फसल को नष्ट कर दे रहे हैं। मुडडा गांव निवासी संजीवन अपने साथियों के साथ जाल लगाया था। उसी में आकर एक सूकर फंस गया। उसे पकड़ने के लिए जैसे ही वे पास में गए सूकर जाल से निकल गया और हमला कर लिया। इससे महातिम घायल हो गए। गांव के गोविद पांडेय पर सुअ के हमले से जख्मी हो गए। झुंड में आए सुअर को ग्रामीणों ने लाठी डंडे से दौड़ाया तो उनकी जान बची।

कृषि बिल पर हल्लाबोल, डटकर लड़ेंगे पंचायत चुनाव : जअपा 

चंदौली :  जन अधिकार पार्टी और भागीदारी संकल्प मोर्चा के घटक दलों के कार्यकर्ताओं ने सोमवार को कृषि बिल का विरोध, महंगाई और उत्पीड़न के खिलाफ जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन किया। इस दौरान राष्ट्रपति के नाम संबोधित 15 सूत्री मांग पत्र डीएम को देकर चेतावनी दी है कि यदि उनकी मांगें नहीं मानी गई तो कार्यकर्ता आंदोलन के लिए बाध्य होंगे। जिला महासचिव भोलानाथ विश्वकर्मा ने केंद्र और प्रदेश सरकार पर आरोप लगाया कि बिना सोचे-समझे किसान विरोधी कानून, महंगाई बढ़ाने, आरक्षण नीति समाप्त कर पूंजीपतियों के इशारे पर कार्य करना शुरु कर दिया है। कहा कि सरकार की नीतियों का परिणाम है कि न किसान संतुष्ट है न आम गरीब, मजदूर, बेरोजगार और छात्र-छात्राएं संतुष्ट हैं। कानून का राज स्थापित कराने वाले जंगलराज को बढ़ावा देकर महिलाओं का खुलेआम उत्पीड़न कर रहे हैं। न्याय मांगने पर पुलिस अपराधियों के इशारे पर उन्हीं के खिलाफ फर्जी मुकदमे लाद रही है जो पीड़ित हैं। उल्लेखनीय है कि बरहनी सेक्टर-4 से बतौर जिला पंचायत सदस्य प्रत्याशी रामविलास मौर्य मैदान में उतर चुके हैं. जिला पंचायत सदस्य चुनाव को लक्ष्य बनाकर रामविलास मौर्य करीब डेढ़ सालों से क्षेत्र में प्रचार-प्रसार में जुटे रहे हैं. उनके इस काम में जन अधिकार पार्टी के पदाधिकारी और कार्यकर्ता भी पूरे तन-मन से जुटे रहे. रामविलास का कहना है कि सेक्टर के विकास  के विकास के लिए पूरी ताकत से चुनाव लड़ेंगे।   इस दौरान कहा कि चुनावी समर में पेट्रो पदार्थों का दाम बढ़ाकर गरीबों की रसोई की फिकी कर दी गई है, ऐसे में दाम बढ़ने से ट्रांसपोर्टर की चांदी कट रही है और आम परिवार महंगाई की आग झुलस रहा है। इस दौरान महासचिव भोलानाथ विश्वकर्मा, पूर्व विस महासचिव नंदा कुशवाहा, पदाधिकारी आनंद कुमार, कल्याण  भंतेजी, बबलू राजभर और वकील राजभर एवं जगरोपन राजभर, अपना दल से गुरुपूरन पटेल समेत सैकड़ों की संख्या में घटक दलों के कार्यकार्य उपस्थित रहे. 

चंदौली जनपद के सभी गांवों में होलिका स्थापित, 28 मार्च को दहन

चंदौली: महाशिवरात्रि के दिन गुरुवार को सैयदराजा, नगर व आसपास के कई स्थानों पर पूजा पाठ के बाद विधिवत होलिका स्थापित की गई। आमतौर पर परंपरा है कि या तो वसंत पंचमी या फिर महाशिवरात्रि के दिन होलिका स्थापित की जाती है। विधि विधान से युवकों ने पूजा कर होलिका स्थापित की। नगर व आसपास दो दर्जन से अधिक स्थानों पर होलिका स्थापित की गई। पूजा पाठ के उपरांत जमीन में गड्ढा खोदकर वहां कोई न कोई कटा अथवा सूखा पेड़ स्थापित किया जाता है। एक बार होलिका स्थापित होने के बाद रोज उसमें कुछ न कुछ वृद्धि की जाती है ताकि दहन वाले दिन तक होलिका अपने पूर्ण स्वरूप में दिखे।  हालांकि प्रशासन ने नए स्थान पर होलिका स्थापित न करने का निर्देश दिया है। 28 मार्च को होलिका दहन होगा। होली पर्व को लेकर अभी से लोग तैयारी में जुट गए हैं।  महाशिवरात्रि के अवसर पर क्षेत्र के सैयदराजा, मानिकपुर, भुजना, चंदौली, मुगलसराय, चकिया,  चौरहट, सेमरा, मढि़या, डांडी, बखरा सहित अन्य गांवों में होलिका स्थापित की गई। युवाओं की टोली ने विधि विधान से पूजा कर होलिका स्थापित की।

भागीदारी मोर्चा की चुनाव जीत रणनीति, सेक्टर-4 से रामविलास मौर्य

चंदौली। जन अधिकार पार्टी काफी समय से चंदौली में अपनी जमीन बनाने में जुटी हुई थी. लिहाजा, त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के मद्देेेेनजर आरक्षण सूची जारी होते ही गुरूवार को जन अधिकार पार्टी कार्यालय पर भागीदारी संकल्प मोर्चा की बैठक हुई। इसमें भागीदारी संकल्प मोर्चा के घटक दल के सभी जिलाध्यक्षों ने मिलकर जिला पंचायत की सभी सीटों पर मजबूती से आपसी सामंजस्य बैठाकर जिला पंचायत चुनाव लड़ने का निर्णय लिया गया। जिलाध्यक्ष डॉ. सुनील कुमार मौर्य ने कहा कि मोर्चा समाज व जनविरोधी ताकतों के खिलाफ पूरी मजबूती व जनता के सहयोग से चुनाव लड़ेगा और अधिक से अधिक सीटों पर जीत दर्ज कर जनता की आवाज उठाने का काम करेगा। चुनाव के जरिए भागीदारी संकल्प मोर्चा सत्ता में लौटने जा रही है, ताकि गरीबों, असहायों व लोकतंत्र में आस्था रखने वालों की आवाज को पुरजोर ढंग से उठाया जाए।  उल्लेखनीय है कि बरहनी सेक्टर-4 से बतौर जिला पंचायत सदस्य प्रत्याशी जन अधिकार पार्टी के विधानसभा सैयदराजा महासचिव रामविलास मौर्य मैदान में उतर चुके हैं. जिला पंचायत सदस्य चुनाव को लक्ष्य बनाकर रामविलास मौर्य करीब डेढ़ सालों से क्षेत्र में प्रचार-प्रसार में जुटे रहे. उनके इस काम में जन अधिकार पार्टी के पदाधिकारी और कार्यकर्ता भी पूरे तन-मन से जुटे रहे.    कहा कि जिले में होने वाले पंचायत चुनाव में भागीदारी संकल्प मोर्चा के सभी घटक एक-दूसरे से समन्वय स्थापित कर मजबूती के साथ चुनाव लड़ेंगे। इस अवसर पर जन अधिकार पार्टी से जिलाध्यक्ष सुनील कुमार मौर्य, लाल मौर्य, भोलानाथ विश्वकर्मा, बबलू राजभर और वकील राजभर एवं जगरोपन राजभर, अपना दल से गुरुपूरन पटेल, एआईएमआईएम से जिलाध्यक्ष हाजी शेख इलियास उपस्थित रहे। अध्यक्षता एडवोकेट नंद लाल प्रजापति एवं संचालन जन अधिकार पार्टी के युवा जिला अध्यक्ष भंते कल्याण ने किया। 

नौगढ़


नौगढ़ : जरहर की मतदाता सूची से काटे गए नागरिकों के नाम, बवाल 

नौगढ़ (चंदौली) : विकास खंड के ग्राम जरहर की मतदाता सूची से नाम कटने से क्षुब्ध ग्रामीण शनिवार को स्थानीय तहसील मुख्यालय पहुंचे। बीएलओ पर भेदभाव व लापरवाही का आरोप लगा प्रदर्शन किया। उप जिलाधिकारी डाक्टर अतुल गुप्ता को पत्रक सौंपकर नाम जोड़वाने की मांग की।ग्रामीणों ने कहा मतदाता पुनरीक्षण का कार्य ठीक तरीके से नहीं किया गया। बीएलओ ने जान बूझकर 125 मतदाताओं का नाम कटवा दिया है। वर्ष 2015 के पंचायत चुनाव में भी यही हुआ था। कई मतदाताओं के नाम सूची में नहीं होने से वे मतदान से वंचित हो गए थे। बीएलओ की जिम्मेदारी जिस कर्मचारी को दी गई, उस पर शुरुआत में ही सवाल उठाया और तहसील प्रशासन से शिकायत की। लेकिन अधिकारियों ने ध्यान नहीं दिया। रामविलास, संगीता, शकुंतला, संजय, जीरा, बालेश्वर, चंदा, प्रियंका, बिदु, छोटेलाल, अशोक, कमलावती आदि मौजूद थी। स्रोत : दैनिक जागरण   

चकिया-नौगढ़ मार्ग पर किसान महेंद्र यादव को ट्रक ने रौंदा, मौत 

नौगढ़ (चंदौली)। नौगढ़ थाना क्षेत्र के गोड़टूटवा गांव के समीप गुरुवार की दोपहर ट्रक के चपेट में आने से बाइक सवार किसान की मौत हो गई। किसान महेंद्र यादव बाइक से रिश्तेदारी बनरसिया गांव से अपने घर लौट रहे थे। दुर्घटना की जानकारी होते ही परिजनों में कोहराम मच गया। पुलिस शव को पोस्टमॉर्टम को भेजकर अगली कार्रवाई में जुटी है। थाना क्षेत्र के रिठिया गांव निवासी 44 वर्षीय महेंद्र यादव खेतीबाड़ी कर परिवार को भरण पोषण करते थे। वह गुरुवार की दोपहर अपने रिश्तेदार बनरसिया गांव गए थे। जहां से बाइक से घर लौट रहे थे। रास्ते में गोड़टूटवा गांव के समीप चकिया-नौगढ़ मार्ग पर सामने से तेज रफ्तार ट्रक के चपेट में आ गए।  हादसे में महेंद्र यादव की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। वहीं ट्रक छोड़कर चालक फरार हो गया। घटना की जानकारी होते ही परिजनों में कोहराम मच गया। वहीं जनप्रतिनिधियों व क्षेत्रीय ग्रामीणों की भीड़ जुट गई। एसआई लक्ष्मण सिंह ने ट्रक को कब्जे में ले लिया। उन्होंने बताया कि शव को पोस्टमॉर्टम के लिए जिला अस्पताल भिजवाया गया है। परिजनों की तहरीर पर आगे की कार्रवाई की जा रही है।

सुखदेवपुर में घुसा मगरमच्छ, रेस्क्यू के बाद ग्रामीणों में राहत  

नौगढ़ : राह चलते आपको मगरमच्छ दिख जाए तो क्या होगा। आपकी धड़कन बढ़ जाएगी ना... जी हाँ.. चकरघट्टा थाना क्षेत्र के सुखदेवपुर गांव में एक विशालकाय मगरमच्छ को गांव में दहशत  माहौल बन गया. मगरमच्छ को देखने के लिए हुजूम उमड़ पड़ा. सूचना मिलते ही वन विभाग की टीम गांव में पहुंचकर रेस्क्यू कर नौगढ़ बांध में छोड़ दिया। ये भी पढ़ें : पीएसी के जवानों ने नौगढ़ के जंगलों में ली नक्सलियों की टोह वन विभाग के नौगढ़ सीओ रिजवान खान ने बताया कि मगरमच्छ करीब चार फीट से बड़ा था। मंगवार की सुबह सुखदेवपुर में घुसते कुछ ग्रामीणों ने देख लिया। देखते ही देखते ग्रामीणों की भीड़ जुट गई.  इस बीच ग्रामीणों ने वन क्षेत्राधिकारी नौगढ़ को इसकी जानकारी दी। वन विभाग के नौगढ़ सीओ रिजवान खान मय टीम मौके पर पहुंच गए। टीम ने जाल डालकर मगरमच्छ को पकड़ लिया और नौगढ़ जलाशय में छोड़ दिया। ये भी पढ़ें : कड़ाके की ठंड में चोरों ने खंगाला सरकारी स्कूल

पुलिस व पीएसी के जवानों ने नौगढ़ के जंगलों में ली नक्सलियों की टोह

नौगढ़ : नौगढ़ के जंगलों में नक्सलियो की टोह में अपर पुलिस अधीक्षक अनिल कुमार के नेतृत्व मे शुक्रवार को पुलिस व पीएसी के जवानों ने अभियान चलाया गया। इस दौरान क्षेत्र के चन्द्रप्रभा, हिनौतघाट ,धुसुरिया ,बलिहारी, नौडिहवां ,बुढनचुआं, खुटहड़ ,धौठवां, जयमोहनी, पोस्ता, सेमरियां, गहिला बाबा आदि जंगल व गांवो में सघन कांबिंग किया गया।  ये भी पढ़ें :  नौगढ़ की उड़नपरी सपना मौर्या ने जीती 100, 200 & 800 मी. की रेस एक अधिकारी ने बताया कि अभियान के दौरान राहगीर, चरवा व ग्रामीणो से नक्सलियो की आवाजाही व संदिग्ध गतिविधियों में संलिप्तता बरतने वालो के बारे में जानकारी ली गई। वही जनपद स्तरीय अधिकारियों व थाने का सीयूजी नंबर अंकित विश्वास पर्ची वितरित कर सहयोग करने की अपील की गई।  ये भी पढ़ें : कड़ाके की ठंड में चोरों ने खंगाला सरकारी स्कूल पुलिस उपाधीक्षक आपरेशन नीरज सिंह पटेल ने बताया कि ग्रामीणो को भरोसा दिया गया कि क्षेत्र में किसी पर संदेह होते ही विश्वास पर्ची में अंकित मोबाइल फोन नंबरो पर सूचना दिया जाय। सूचना देने वाले का नाम पूर्णतया गोपनीय रखा जाएगा। 

चकिया


चकिया के बरहुआ गांव में बिजली के करंट से युवक की मौत

इलिया। चकिया कोतवाली क्षेत्र के बरहुआ गांव में गुरुवार को पंखा मरम्मत के दौरान 35 वर्षीय सुद्धू करंट लग गया। इससे युवक की घटना स्थल पर ही मौत हो गई। घटना के बाद परिजनों में कोहराम मच गया। वही परिजन पुलिस को बताए बगैर अंतिम संस्कार कर दिये। घटना से पुलिस अनभिज्ञ है। क्षेत्र के बरहुआ गांव निवासी सुद्धू सैदूपुर प्राथमिक विद्यालय के समीप शाम को ठेला पर अंडा की दुकान लगाता था। इससे अपने परिवार का भरण पोषण करता था। गुरुवार की दोपहर 12 बजे सीलिंग फैन मरम्मत करने लगा। वही मरम्मत के दौरान पंखा के करंट से घटनास्थल पर मौत हो गई। घटना के बाद परिजनों में अफरा तफरी मच गई। प्रभारी निरीक्षक नागेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि घटना की जानकारी नहीं मिली है। सोर्स : हिन्दुस्तान

चकिया : सुलझ गई श्वेता के हत्या की गुत्थी, इतना गिर गए थे ससुराल वाले

 चकिया : चकिया कोतवाली के इसहुल गांव में मंगलवार की रात विवाहिता श्वेता विश्वकर्मा ने आत्महत्या नहीं की थी, बल्कि ससुरालवालों ने रस्सी से गला घोंटकर हत्या कर दी थी। इसके बाद शव को जलाकर खुदकशी का रूप दे दिया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने के बाद पुलिस पति समेत चार लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तारी को दबिश दे रही है।   जानकारी के मुताबिक विवाहिता की मंगलवार की शाम संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी। ससुराल पक्ष के लोगों ने जलने से विवाहिता की मौत की बात बताई थी। वहीं मझुईं-इलिया निवासी मायकेवालों ने ससुराल पक्ष के लोगों पर हत्या का आरोप लगाते हुए मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस अपने स्तर से घटना की जांच कर रही थी। हालांकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट से स्थिति स्पष्ट हो गई है। इसमें विवाहिता का गला रस्सी से कसने की वजह से मौत की पुष्टि हुई है।  मायकेवालों का आरोप है कि विवाहिता की रस्सी से गला घोंटकर हत्या करने के बाद शव को जला दिया गया, ताकि खुदकशी का रूप दिया जा सके। ससुरालवालों को भरोसा था कि अधजला शव देखकर लोग मान जाएंगे कि महिला ने खुदकशी की होगी। पुलिस अब आरोपितों की तलाश कर रही है। उन्हें गिरफ्तार कर पूछताछ करने पर हत्या के पीछे का रहस्य उजागर होगा। विवाहिता के चाचा शरदचंद शर्मा ने बताया कि ससुराल पक्ष के लोगों की ओर से दहेज के लिए प्रताड़ित किया जाता था। श्वेता इसकी शिकायत करती थी। उपनिरीक्षक राजकुमार शुक्ला ने बताया कि घटना की गुत्थी सुलझ चुकी है। शीघ्र ही हत्यारोपितों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

देवर-भाभी के अवैध संबंध में हुई थी विवाहिता हत्या, 4 गिरफ्तार

चंदौली।  चकिया कोतवाली क्षेत्र के भटवाराकलां गांव में 22 फरवरी की सुबह 32 वर्षीय विवाहिता तुलसा देवी के खून से लथपथ मिले शव के मामले में पुलिस ने पति मुकेश समेत चार लोगों को सिकंदरपुर पटेल तिराहे के पास से गिरफ्तार कर लिया। मृतका के पिता भग्गू राम यादव ने बेटी की हत्या का आरोप लगाते हुए पति सहित चार लोगों के विरुद्ध लिखित तहरीर दी थी। पुलिस ने सभी फरार आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।  कोतवाल रहमतुल्लाह खां ने रविवार की सुबह लगभग 11 बजे मुखबिर की सूचना पर आरोपित पति मुकेश, जेठ इंद्रासन, रामसूरत व भतीजा इंद्रजीत यादव को सिकंदरपुर गांव के पटेल तिराहे के समीप गिरफ्तार किया। पुलिस की पूछताछ में पति मुकेश ने बताया कि उसकी पत्नी तुलसा को उस पर भाभी के साथ गलत संबंध का शक था। इसको लेकर आए दिन कहासुनी होती थी।  इसी बात को लेकर 22 फरवरी की सुबह लगभग पांच बजे गौशाला के पास विवाद कर रही तुलसा को मुकेश ने थप्पड़ मार दिया। इससे वह अनियंत्रित होकर पत्थर के बने खूंटे पर गिर गई। सिर में गंभीर चोट लगने से बेहोश हो गई थी। आनन-फानन में उसे जिला संयुक्त चिकित्सालय ले जा रहे थे। तभी रास्ते में ही उसने दम तोड़ दिया था। कोतवाल ने बताया कि सभी आरोपितों को आईपीसी की धारा 498ए/304/34 के तहत मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया गया। source : हिन्दुस्तान 

गुजरात में ऑटो चलाने गए चकिया के युवक की हत्या 

शिकारगंज : अपने परिवार के भरण-पोषण के लिए परदेश गुजरात कमाने गए चंदौली जनपद के एक युवक हत्या का मामला प्रकाश में आया है. इससे  परिजनों में शोक की लहार व्याप्त है. पुलिस आवश्यक कार्रवाई में जुट गई है.    एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि चकिया कोतवाली के पंडी (विसौरा) गांव निवासी स्व. जयश्री पाल का पुत्र अखिलेश गुजरात में रहकर आटो चलाकर अपने परिवार का भरण पोषण करता था। अखिलेश की मां मंजू देवी ने बताया कि वह गुजरात में अपना निजी आटो चलाता था। रोज की भांति 20 जनवरी को गुजरात के वापी शहर में सुबह सात बजे आटो लेकर सवारियों की तलाश में निकला था।  ये भी पढ़ें :  बबुरी में किसान ने खुद को मारी गोली, कारण का खुलासा अज्ञात बदमाशों ने चाकू मारकर युवक की निर्मम हत्या कर दी। सुबह लगभग आठ बजे वापी शहर में ही गुरुबाग पोखरे के समीप उसका आटो में शव मिला। 21 की रात गुजरात पुलिस ने परिजनों को घटना की जानकारी दी। घटना से मां, पत्नी शशिकला बेसुध हो गईं।  पुलिस आवश्यक कार्रवाई में जुट गई है. ये भी पढ़ें :  डंपर ने नवविवाहिता को रौंदा, भाग रहा चालक गिरफ्तार

मुगलसराय


स्वागत से खुश कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष अजय ने कहा: युवा-किसान विरोधी बीजेपी

चंदौली/नियामताबाद : कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने शनिवार को जनपद के दौरे पर रहे. अजय ने कहा केंद्र सरकार पूजीपतियों के हाथों की कठपुतली बनकर रह गई है। सरकार को देश के गरीब, किसान और नौजवानों से जैसे कोई मतलब ही नहीं रह गया है। कार्यक्रम स्थल तक पहुंचने से पहले प्रदेश अध्यक्ष का कई स्थानों पर फूल-मालाओं से स्वागत भी किया गया। ये भी पढ़ें :  इलेक्शन : अतिसंवेदनशील बूथ चिन्हित, इस माह में होंगे चुनाव स्वागत से अभिभूत प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कार्यकर्ताओं में यह विश्वास व सहयोग पार्टी की सबसे बड़ी पूंजी है। भाजपा सरकार किसान विरोधी होने के साथ-साथ युवा व रोजगार विरोधी भी है. ये भी पढ़ें : नववर्ष पर वनाचंल की वादियां सैलानियों से गुलज़ार​ उन्होंने आगे कहा कि कार्यकर्ता कठोर परिश्रम कर पार्टी को न्याय पंचायत स्तर पर मजबूत करें। वे संगठन सृजन अभियान के तहत शनिवार को नियामताबाद गांव पहुंचे थे। कार्यकर्ताओं संग बैठक की, उनमें जोश भरा और केंद्र व प्रदेश सरकार के खिलाफ भड़ास निकाली। प्रदेश सचिव वेदप्रकाश सिंह, सरिता पटेल, प्रमोद पांडेय, जिलाध्यक्ष धर्मेंद्र तिवारी, सत्यमूर्ति ओझा, डाक्टर सुल्तान खान, सतीश बिद, राकेश तिवारी, साजू पांडेय आदि मौजूद रहे।

सपा प्रदेश अध्यक्ष का चंदौली में मना जन्मदिवस, दीर्घायु की कामना 

चंदौली : जनपद में कई स्थानों पर समाजवादी पार्टी की इकाई द्वार समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष/एमएलसी नरेश उत्तम पटेल का जन्मदिवस मनाया गया. मुख्य रूप से रविवार को सपा महिला जिलाध्यक्ष गार्गी सिंह पटेल ने अपने साथियों-समर्थकों और कार्यकर्ताओं संग केक काटकर नरेश उत्तम पटेल का जन्मदिवस मनाया।  ये भी पढ़ें : किसानों के समर्थन में जिलाध्यक्ष गार्गी सिंह की चौपाल, बताया-काला कानून   समाजवादी पार्टी की जनपद इकाई ने प्रदेश अध्यक्ष/एमएलसी नरेश उत्तम पटेल के जन्मदिवस को धूमधाम से मनाया। जगह-जगह कार्यकर्ताओं द्वारा केक काटकर मनाया मनाया गया. कार्यकर्ताओं ने उन्हें सहृदय बधाई व  शुभकामनाएं तथा ईश्वर से उत्तम स्वास्थ्य व दीर्घायु होने की कामना की। इस दौरान जिलाध्यक्ष गार्गी सिंह पटेल समेत महिला पदाधिकारी और नागरिक उपस्थित रहे.  ये भी पढ़ें : सपाइयों ने पूर्व पीएम चौधरी चरण सिंह को याद कर बताया-मसीहा

डंपर ने नवविवाहिता को रौंदा, भाग रहा चालक गिरफ्तार 

मुगलसराय :  मुग़लसराय थाना क्षेत्र के डांडी गांव के पास डंपर ने एक बाइक सवार नवविवाहिता को रौंद दिया। घटना के बाद भाग रहे डंपर चालक को बाइक सवारों ने पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया। मृत विवाहिता के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया.  ये भी पढ़ें :  SP अमित कुमार का धमाका, 20 बाइकों के साथ बिहार के 4 चोर गिरफ्तार   एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि सोमवार की शाम को सकलडीहा के बर्थरा खुर्द गांव निवासी लालचंद यादव अपनी बहू सीमा यादव (25) को दवा दिलाने बाइक से बनारस जा रहे थे। इस दौरान जैसे ही वह डांडी पहुंचे की तभी एक डंपर ने बाइक में पीछे से धक्का मार दिया।  ये भी पढ़ें :  सीएम योगी ने नौगढ़ से किया वादा निभाया, जल्द खुलेगा दवा कारखाना धक्का लगते ही बाइक सवार विवाहिता सीमा सड़क पर गिर गई और डंप के पहिये के नीचे आ गई। इससे उसकी मौके पर ही से मौत हो गई। घटना के बाद चालक डंपर को लेकर भागने लगा। मौके पर पहुुंचे अन्य बाइक सवार ने डंपर का पीछा कर गाड़ी को चालक सहित पकड़ लिया। सूचना पाकर मौके पर पहुंची जलीलपुर पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर कार्रवाई में जुट गई है.

मुगलसराय ने थामा बनारस का विजय पताका, 6 विकेट से रौंदा

मुगलसराय : सर्दियों का मौसम हो, खुला मैदान हो.. और क्रिकेट का मैच हो... फिर युवाओं को क्या चाहिए। दुलहीपुर स्थित बीपी हायर सेकेंडरी स्कूल में चल रही अंतर जिला क्रिकेट प्रतियोगिता में मुगलसराय व वाराणसी के बीच मैच खेला गया। इसमें मुगलसराय ने बेजोड़ प्रदर्शन करते हुए मैच अपने नाम कर लिया।  ये भी पढ़ें : बबुरी को मुगलसराय ने हराया, ऑफ द मैच बने विकेट कीपर सम्राट मौर्य गौरतलब है कि टास जीतकर मुगलसराय की टीम ने पहले क्षेत्ररक्षण का निर्णय लिया। बल्लेबाजी करने उतरी वाराणसी की टीम 135 रन पर आल आउट हो गई।  बनारस की ओर से सूरज ने 24, शमशी ने 20, अनिकेत व इमरान ने 15 व 10 रन बनाए। जवाब में मुगलसराय की टीम ने 26वें ओवर में 136 रन बना कर जीत दर्ज की। अंपायर अरसद, स्कोरर दीपक, अमन व मैच रेफरी की भूमिका मुकेश पटेल ने निभाई। ये भी पढ़ें :  फरवरी में होगी इंटर की प्रयोगात्मक परीक्षाएं, तैयारी में जुटा शिक्षा विभाग

पंचायत चुनाव


इलेक्शन : अतिसंवेदनशील बूथ चिन्हित, इस माह में होंगे चुनाव 

चंदौली। पंचायत चुनाव की सरगर्मियां तेज हो चुकी है. चुनाव कर्मचारी और चुनाव प्रत्याशी अपने स्तर से तैयारी में जुट गए हैं. चंदौली जिला प्रशासन ने संवेदनशील व अतिसंवेदनशील मतदान केंद्रों को चिह्नित करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। इसकी सूची एक सप्ताह में आयोग को भेज दी जाएगी।  विभागीय लोगों की माने तो मार्च अथवा अप्रैल माह में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव कराए जा सकते हैं। गौरतलब है कि आयोग ने चुनाव संबंधी अन्य तैयारी पूर्ण करने का निर्देश दिया है। ऐसे में निर्वाचक नामावलियों के पुनरीक्षण के साथ ही मतदान केंद्रों के निर्धारण की प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई है। निर्वाचन विभाग के अधिकारी-कर्मचारी जिले में संवेदशील व अतिसंवेदनशील मतदान केंद्रों के निर्धारण में जुट गए हैं। इसके लिए आयोग के मानक के अनुसार मतदाताओं की संख्या, पिछले चुनावों में हुई घटनाएं, बूथ कैप्चरिंग समेत अन्य बिंदुओं को आधार बनाया गया है। ये भी पढ़ें : नववर्ष पर वनाचंल की वादियां सैलानियों से गुलज़ार  विभाग की ओर से एक सप्ताह के अंदर आयोग को रिपोर्ट भेज दी जाएगी। दरअसल, पंचायत चुनाव में मतदाताओं को अपने पाने में करने की होड़ लगी रहती है। इसको लेकर प्रत्याशियों व उनके उम्मीदवारों के बीच बूथों पर भी कशमकश देखने को मिलती है।   क्या कहते हैं अधिकारी .. सहायक निर्वाचन अधिकारी(पंचस्थानी) कैलाश यादव ने बताया कि संवेदनशील व अतिसंवेदनशील मतदान केंद्रों को चिह्नित किया जा रहा है। एक सप्ताह में इसका निर्धारण कर रिपोर्ट उच्चाधिकारियों व आयोग को भेजी जाएगी।  ये भी पढ़ें : मतपत्र के आने की खबर लगते ही प्रत्याशियों के चेहरे हुए गुलाबी

किसानों के समर्थन में जाप-अद का प्रदर्शन, सरकार के खिलाफ नारेबाजी

चंदौली : भाजपा सरकार द्वारा केंद्र से पारित कृषि विधेयक बिल का विरोध देशभर के किसान कर रहे हैं. इस कृषि बिल को वापस लेने समेत विभिन्न मांगों को लेकर सोमवार को जन अधिकार पार्टी और अपना दल (क) के कार्यकर्ताओं ने कलक्ट्रेट गेट पर प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के दौरान कार्यकर्ताओं ने केंद्र व प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।  जन अधिकार पार्टी के जिलाध्यक्ष डॉ सुनील कुमार मौर्य ने कहा कि भाजपा सरकार किसानों के हित में नहीं, बल्कि पूंजीपतियों के लिए कार्य कर रही है। सरकार की ओर से लागू किए गए कृषि विधेयक बिल से किसान पूरी तरह से बर्बाद हो जाएगा। किसानों के हित को देखते हुए सरकार को इस काले कानून को वापस लेना होगा। ये भी पढ़ें :बीजेपी-सपा छोड़ कई हो गए 'आप' के, बढ़ रही जनाधार की जमीन जअपा के प्रदेश सचिव रामकृष्ण प्रजापति  प्रदेश में कानून व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त हो गई है। आए दिन आपराधिक घटनाएं हो रही हैं। महंगाई अपने चरम सीमा पर पहुंच गई है। इससे गरीब व मध्यम वर्ग के लोग परेशान हैं। नौजवान वर्ग रोजगार नहीं मिलने से भटक रहा है। साथ ही राष्ट्रपति और राज्यपाल को संबोधित मांग पत्र एडीएम अतुल कुमार को सौंपा। ये भी पढ़ें : नौगढ़ की उड़नपरी सपना मौर्या ने जीती 100, 200 & 800 मी. की रेस प्रदर्शन करने वालों में प्रदेश सचिव रामकृष्ण प्रजापति, गुरुपूरन पटेल, कन्हैया कुशवाहा, आनंद कुमार, योगेश मौर्य, सुनील कुमार मौर्य, नसीम खान, दंगल यादव, भोलानाथ विश्वकर्मा, कमलेश गहरवारआदि शामिल रहे।

सकलडीहा


शौक ने बना डाला गांजा तस्कर, चकिया-सकलडीहा के आरोपी गिरफ्तार

चंदौली : सदर कोतवाली पुलिस और स्वाट टीम ने उड़ीसा से ट्रक में छिपाकर लाए जा रहे 3.10 क्विटल गांजा को बरामद कर लिया है. साथ ही चार तस्करों को रंगेहाथ गिरफ्तार भी कर लिया है. आरोपी चकिया थाना के अमरा निवासी सदाशंकर सिंह व सकलडीहा थाना के औरवां निवासी गोविद गिरी ने पुलिस को बताया कि वे परिवार का शौक पूरा करने के लिए गांजा तस्कर बन गए। लंबे समय से कम दाम में गांजा खरीदकर ऊंचे दाम में बेच रहे थे। ये भी पढ़ें :  बबुरी में किसान ने खुद को मारी गोली, कारण का खुलासा   पुलिस अधीक्षक अमित कुमार ने बताया कि पुलिस को सूचना मिली कि उक्त ढाबे के पास गांजा तस्करों की डीलिग होने वाली है। टीम सक्रिय हो गई और संदिग्ध ट्रक की निगरानी करने लगी। उक्त दोनों व्यक्ति बाइक से आए और ट्रक में बैठे दो अन्य तस्करों से बात करने लगे। इसी बीच पुलिस ने चारों को धर दबोचा। पुलिस ने ट्रक का केबिन खुलवाकर देखा तो उसमें 58 पैकेट में 3.10 क्विटल गांजा था। ट्रक से पकड़ाए तस्करों ने बताया कि वे उड़ीसा के रहने वाले हैं। वे बचते-बचाते चंदौली पहुंच गए। सदाशंकर व गोविद वहां से गांजा मंगाते हैं तो वे लेकर आते हैं।  ये भी पढ़ें :  बलुआ पुलिस ने पकड़ी 4 क्विंटल गांजे की खेप पकड़े गए अन्य दोनों सुशांत नायक निवासी नाईक साही चिकीडीह थाना बिनुआ गाऊन जिला गंजम, दूसरा आनंद सेठी निवासी दासपुर कोलाठी, थाना कोलामी गाऊन जिला गंजम उड़ीसा के हैं। उनके पास से तीन मोबाइल, चंदौली नंबर की बाइक व 2400 रुपये जब्त किया गया।  

गर्भवती महिला की विशेष देखभाल करने की आवश्यकता : डॉ रवि 

धानापुर : धानापुर क्षेत्र के ओदरा गांव स्थित महेंद्र बिंद जी के आवास पर शान्ति क्लीनिक के द्वारा आयोजित स्वास्थ्य जागरूकता कार्यक्रम के अवसर पर बीएचयू के चिकित्सक डॉ रविशंकर मौर्य ने बताया कि ठंड के समय में वायरल इनफेक्शन, सर्दी-जुखाम, बुखार, खांसी से बचाव के साथ हृदय, शुगर, फेफड़े में सूजन, गठिया जैसे रोगियों को ठंड से बच कर रहने की आवश्यकता है. लोगों में जागरूकता व नियमित चेकअप के बाद नियमित दवा के सेवन से गंभीर से गंभीर बीमारियों का इलाज किया जा सकता है.   ये भी पढ़ें : बाहर की दवा लिखने पर डीएम ने लगा दी सीएमएस द्विवेदी की क्लास डॉ रवि ने बताया कि इस समय ठंड की वजह से लोगों को फेफड़े में इन्फेक्शन का खतरा बढ़ गया है. इस समय गरम पानी का सेवन करने से लाभ होगा। लोगों से आव्हान किया कि किसी भी छोटी बीमारी जुखाम, बुखार, खांसी को हल्के में न ले, अपने नजदीकी चिकित्सक से सलाह लेकर इलाज जरूर करें।   ये भी पढ़ें : सर्दी-खांसी में शहद का सेवन कर डॉक्टर से रहे दूर, पढ़ें...ये रिपोर्ट गर्भवती महिलाओं मैं  एनीमिया  जैसी बीमारी  बढ़ती जा रही हैं. इसकी मूल वजह  खानपान है. गर्भवती महिलाओं को  हरी सब्जी के साथ ही लोहे की कड़ाही में भोजन करने की आवश्यकता है. जिससे आयरन की प्रचुर मात्रा मिलती है. इस अवसर पर मुकेश मौर्य, रविजीत कुशवाहा, सोखा बिंद, मीरा बिंद, मुरारी बिंद, मनोज बिंद,सतीश सेठ आका, अनिल यादव कृष्णा, डॉ एमके बिंद, डॉ दीपक बिंद, डॉ हरिशंकर राय, सुनील, आशा देवी, रीना कुमारी, ओमप्रकाश यादव, दिनेश बिंद, विजय कुमार सहित सैकड़ों लोग उपस्थित रहे। धन्यवाद ज्ञापन जिला पंचायत सदस्य महेंद्र प्रताप बिंद ने किया

ट्रैक्टर की चपेट में आने से व्यक्ति की मौत

कमालपुर। धीना थाना क्षेत्र के राष्ट्रीय इंटर कॉलेज के समीप रविवार की सुबह ट्रैक्टर के धक्के से वृद्ध घायल हो जिसे इलाज के लिए अस्पताल पहुंचाया गया. जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।  एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि बभनियाव थाना गांव निवासी बेचई दुबे (70) सुबह कमालपुर बाजार गया था। रास्ते में राष्ट्रीय इंटर कालेज के पास तेज गति से जा रहे ट्रैक्टर ने उन्हें धक्का मार दिया। ये भी पढ़ें :  कार की टक्कर से महिला की मौत, 4 लोग घायल इससे वे चोटिल होकर गिर गए। ट्रैक्टर गांव के ही एक व्यक्ति का था जिसे समझौते में छोड़ दिया गया। वहीं घायल बेचई दुबे को परिजनों व ग्रामीणों ने निजी चिकित्सालय में भर्ती कराया जहां उनकी मौत हो गयी।  

बीजेपी-सपा छोड़ कई हो गए 'आप' के, बढ़ रही जनाधार की जमीन

सकलडीहा: यदि ऐसे ही बीजेपी, सपा, बसपा या अन्य दलों का दामन छोड़कर लोग आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता बनाते रहे तो यह खतरे की घंटी है. इन दलों के लिए जो सत्ता में रह चुकी है या है. दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी 'आप' अध्यक्ष अरविदं केजरीवाल के दिल्ली मॉडल के आकर्षण को जिसे देखकर दूसरे दल के कार्यकर्ता आप का दमन थाम रहे हैं. अभी हाल में सकलडीहा में 15 से अधिक लोगों ने आप को ज्वाइन किया है.   गौरतलब है कि सकलडीहा में रविवार को विधानसभा कार्यालय में प्रदेश सचिव /जिला प्रभारी देवकांत वर्मा, जोन कैंपिंग इंचार्ज जेपी पांडेय और जिला अध्यक्ष  कला प्रसाद सोनकर की अध्यक्षता में सदस्यता बैठक संपन्न हुई. इस बैठक में बीजेपी, सपा और बसपा से आए करीब 15 से अधिक कार्यकर्ताओं को आम आदमी पार्टी की सदस्यता दिलाई गई. इस दौरान प्रदेश सचिव महिला विंग प्रियंका प्रजापति, SC-ST प्रदेश सचिव डॉ दयाराम समेत कई आम आदमी पार्टी के पदाधिकारी और कार्यकर्ता मौजूद रहे.  ये भी पढ़ें : कृषि कानून के विरोध में कांग्रेस ने घेरा सांसद महेन्द्रनाथ का कार्यालय  और ...ये आप के हो गए  आम आदमी पार्टी के पदाधिकारियों ने 16 नये कार्यकर्ताओं को पार्टी की टोपी पहनाकर पार्टी की सदस्यता दिलाई गई. जो की विभिन्न पार्टी से और शिक्षक रहे हैं. इनमें बीजेपी से पुष्पेंद्र नाथ तिवारी, श्याम नारायण विश्वकर्मा, सुरेश गुप्ता, बसपा से जीतू राव,  राहुल कुमार, अवधेश नायर, सपा से बाबूलाल, मिथलेश, बृजेश यादव अभिषेका यादव, हेमंत, राजेश शर्मा, मुस्ताक अहमद, खालिद अंसारी, राम विलाश प्रजापति और प्रमोद यादव आदि शामिल हैं.   मिशन सैयदराजा शुरू ... इधर, सैयदराजा विधानसभा कार्यकारणी की महत्वपूर्ण बैठक दोपहर 3 बजे सैयदराजा विधानसभा अध्यक्ष शिवमुनि के बघरी स्थित आवास पर हुई. जोन कैंपिंग इंचार्ज  जेपी पांडेय, जिला प्रभारी देवकांत वर्मा व् जिला अध्यक्ष कला प्रसाद सोनकर के द्वारा पंचायत चुनाव व  पार्टी सगठन पर चर्चा हुई. इस दौरान प्रमुख रूप से जिला महासचिव प्रवीण चौबे ,सकलडीहा विधानसभा प्रभारी पंकज सिंह, सकलडीहा विधानसभा सह प्रभारी प्रिंस मोदनवाल जी , सकलडीहा विधानसभा अध्यक्ष देवानन्द यादव , विधानसभा सचिव रणजीत कुमार, प्रदीप  और बलचरन समेत कई गणमान्य उपस्थित रहे. ये भी पढ़ें : नौगढ़ की उड़नपरी सपना मौर्या ने जीती 100, 200 & 800 मी. की रेस

ग्लोब


उम्र की सीढ़ियों पर लदकद बसंत, कविता के फूल-विचारों का द्वंद

- बसंत भी लिखता है एक संदेशा खोए हुए आदमी के नाम  वाराणसी : बचपन की स्मृतियों में बसंत पंचमी की स्मृति स्कूल में होने वाली सरस्वती वंदना और सरस्वती पूजा के बाद मिलने वाले प्रसाद के रूप में ही है। उम्र की कुछ और सीढ़ियां चढ़कर आगे आने पर बसंत की गरिमा का कुछ अनुमान हुआ जब बसंत पर हिन्दी के महत्वपूर्ण कवियों के गीत और कविताएं पढ़ी। यह भी मालूम हुआ कि हिन्दी के श्रेष्ठ एवं लोकप्रिय कवि श्री सूर्यकांत त्रिपाठी निराला को 'बसंत का अग्रदूत' भी कहा जाता है। वह स्वयं को सरस्वती का पुत्र मानते थे और बसंत पंचमी के दिन अपना जन्मदिन मनाते थे। उनके इस नाम को सार्थक करने वाली बहुत सी कविताएं उनके यहां मिल जाती है जिनमें से एक है -  अभी न होगा मेरा अन्त अभी ही तो आया है मेरे वन में मृदुल वसन्त अभी न होगा मेरा अन्त निराला जी जहां मैं अकेला ; देखता हूं , आ रही .....मेरे दिवस की सान्ध्य बेला।  जैसा गीत रच सकते थे वहीं उन्होंने वसन्त पर भी हिन्दी के श्रेष्ठतम गीतों को रचा। शायद, राग और विराग से भरे जीवन और गीतों से ही उन्होंने अपने कविता संग्रह का नाम पाया हो 'राग-विराग'। भारतेन्दु युग के लेखकों ने पर्व-त्योहारों पर भी ललित-निबन्ध लिखे हैं, जिनमें उत्सव का उल्लास और उत्साह देखने को मिलता है। क्रमशः समय के साथ इस उत्सवी भाव को हम कम होता हुआ पाते हैं। रघुवीर सहाय 'बसंत आया' शीर्षक कविता में लिखते हैं - जैसे बहन 'दा' कहती है ऐसे किसी बँगले के किसी तरु (अशोक ?) पर कोई चिड़िया कुऊकी चलती सड़क के किनारे लाल बजरी पर चुरमुराये पाँव तले ऊँचे तरुवर से गिरे बड़े-बड़े पियराये पत्ते कोई छह बजे सुबह जैसे गरम पानी से नहायी हो- खिली हुई हवा आयी फिरकी-सी आयी, चली गयी। ऐसे, फुटपाथ पर चलते-चलते-चलते कल मैंने जाना कि बसन्त आया। इसी तरह कॉलेज के दिनों में मैंने जिज्ञासावश कविता के रूप में यह लिखा था कि क्या वसन्त का अस्तित्व केवल कवियों की कल्पना या कविता तक ही हैं या उसके बाहर भी वसन्त का कोई अस्तित्व है? पर तब यह बात कहां पता थी कि बसंत एक मौसम या पर्व ही नहीं, एक भाव भी है - ठीक उस वक्त जब आदमी लिखता है चिट्ठी खोए हुए वसंत के नाम वसंत भी लिखता है  एक संदेशा खोए हुए आदमी के नाम। - उपमा ऋचा रूमान को हेय मानने या आधुनिक दिखने की अपेक्षा से इसे उपेक्षित करने की प्रवृत्ति के खिलाफ कवि, गीतकार, नवगीत के सशक्त हस्ताक्षर श्री उमाकान्त मालवीय लिखते हैं,  "आधुनिकता गुलाब की कलम की तरह आरोपित नहीं की जाती। वह भीतर से उगती है। मेरे नजदीक प्रस्तुत क्षण की अपेक्षाओं के प्रति सतत जागरूकता ही आधुनिकता है। वे जो कहीं बहुत गहरे से भीतर से जुड़े होते हैं, वे ही संघर्ष में जूझ पाते हैं। वे जो तथाकथित एण्टी रूमान और तथाकथित आधुनिकतावादी रचनाकार होते हैं, वे न तो रचना के स्तर पर और न ही व्यवहारिक धरातल पर संघर्ष कर पाते हैं, वे केवल फतवे देते हैं, तकरीर करते हैं। मेरे निकट रूमान एक मूल्यवान मूल्य है, जिसके लिए कोई भी मूल्य देने को मैं बराबर प्रस्तुत रहा हूं। रूमान के अभाव में मेरे लिए रचना तो क्या जीना भी सम्भव नहीं है। आज हमारे बीच दुराग्रह के दो छोर हैं। एक यथार्थ के नाम पर मूल के पंक को कमल की पंखुड़ियों पर पोत कर उसे ही सर्वस्व एवं ग्राह्य घोषित कर रहा है, उसके लिए कमल का रूप, रस, गन्ध, पराग सब-कुछ बेमानी है। दूसरा, कमल के रूप, रस, गन्ध, पराग को ही सब-कुछ मानकर सौन्दर्य के नाम पर मूल के पंक को ही नकार रहा है। इनमें एक यथार्थवादी होकर भी यथार्थ से परे है और दूसरा सौन्दर्यवादी होकर भी सौन्दर्य से परे हैं।" बसंत की बात चलते ही याद आते हैं सरसों के खेत, तरह-तरह के फूल-पौधों से सजी रंग-बिरंगी धरती। पर प्रकृति के इस सौन्दर्य का महत्व उनके लिए अधिक है, जो अपने प्रिय के संग हो। प्रिय यदि दूर कहीं महानगर में रोजगार की फ़िक्र में फंसा हुआ हो तो। इस पीड़ा को विभिन्न लोकगीतों में भी व्यक्त किया गया है। भारत में अंग्रेजों के आगमन के बाद जिस प्रकार के औद्योगिक विकास की शुरूआत हुई उसकी वजह से गांवों, खेतों और प्रकृति से दूर गांवों से शहरों और महानगरों की ओर पलायन की भी शुरूआत हुई।   बसंत की बहार और रोजगार के कारणों से होने वाले पलायन को शायक आलोक अपनी इस कविता में दर्ज करते हैं।  आएगा वसंत तो सरसों ने लीपा है आंगन  लाएगा वसंत पीला साजा और झुलनी  दमकेगी सरसों  मन को ताखे से उतार  धो पसार  फूलेगी कुलबोरनी  माघ अभी है शेष  सरसों इस बार रोक लेगी घर बसंत को या सरसों चल पड़ेगी पिया संग  मजूरी को परदेस! पर जीवन अपनी राह बना ही लेता है। प्रकृति और हरियाली से दूर महानगरों के कृत्रिम परिवेश में रहते हुए भी कहीं गुनगुनी धूप का खिलना, और मन में किसी कविता का उगना भी बसंत की बयार सा मालूम पड़ता है। इसी बसंती बयार को कविता में रेखांकित करती है युवा कवि प्रशांत तिवारी की यह कविता,  धूप में कविता पिघलती है  जैसे पिघल जाता है  छाछ में मक्खन  जैसे सुबह-सुबह पिघलती है  सरसों के फूलों की ख़ुशबू  वैसे ही  गुनगुनी धूप में बैठने पर  मन से पिघल जाती है कविता  और फैल जाती है  चारों ओर  गर्म खिचड़ी में  घी की तरह.... कविता के लिए शब्द/भाव जरूरी हैं  या धूप। लेखक सह प्रस्तुतिकर्ता : अंकेश मद्धेशिया तस्वीर : साभार 

विश्व गौरैया दिवस : वीवंडर फाउंडेशन के प्रयास से घर-आंगन गुलज़ार

चंदौली : चीं-चीं, चूं-चूं करती चिड़िया, फुर्र-फुर्र उड़ जाती चिड़िया, फुदक-फुदक कर गाना गाती, रोज सवेरे हमें जगाती..हम सबने बचपन में यह कविता कंठस्थ की होगी। नतीजा यह कि आंगन से चिड़ियों की चहचहाहट ही गायब हो गई थी लेकिन वीवंडर फाउंडेशन के पिछले 3 साल के अथक प्रयास से गौरैया फिर से घर -आँगन को वापस आने लगी है। रोज सवेरे गूंजने वाली गौरैया की चहचहाट को वापस लाने के लिए कोशिशें शुरू हुईं और लोगों का समर्थन मिला। शहर में कृत्रिम घोंसले लगाए गए। लोग छतों और चहारदीवारी पर दाना-पानी रखने लगे। कोशिशें रंग लाईं और रूठी गौरैया वापस लौटने लगी। अब जरूरत इस बात की है कि इन कोशिशों को जारी रखा जाए। इसीलिए हर वर्ष 20 मार्च को विश्व गौरैया दिवस मनाया जाता है। वीवंडर फाउंडेशन टीम का यही कहना है कि कंक्रीट में बदलते शहरों में गौरैया के प्राकृतिक वासस्थल खत्म होते जा रहे हैं। न अब आंगन रहे और न ही रोशनदान। हरियाली भी सिमटती जा रही है। ऐसे में कृत्रिम घोंसले लगाकर गौरैया को आसरा देने की मुहिम बीते कई सालों से की जा रही है। इसका परिणाम भी काफी अच्छा रहा है। इन घोंसलों को चिड़िया ने अपना आशियाना बना लिया है।  अब जरूरत इस बात की है कि अब देश के अलग अलग जगहों पे गौरैया पार्क विकसित किए जाएं जिससे गौरैया संरक्षण किया जा सके। गौरैया ही एक ऐसी चिड़िया है जो घरों में परिवारजनों के साथ रहती है। हमारे नजदीक तक आती है, अंडे देती है और परिवार बढ़ाती है। यह किसी को नुकसान नहीं पहुंचाती और यही वजह है कि इसका कलरव घर में खुशियां लाता है।गौरैया संरक्षण की दिशा में बच्चों का रुझान बहुत ही सराहनीय रहा है । लेकिन अब समय आ गया है कि बच्चे ही नही अब सभी आयुवर्ग के लोगों को आगे आना होगा और गौरैया को बचाने के लिए तेजी से कार्य करना होगा। बढ़ता प्रदूषण, आवास में कमी, पेड़ों की घटती संख्या और सब्जी पर अनाज में कीटनाशकों का इस्तेमाल गौरैया की संख्या के कमी के बड़े कारण हैं। वीवंडर फाउंडेशन द्वारा गौरैया संरक्षण के क्षेत्र मे की गई पहल- वीवंडर फाउंडेशन की नींव 14 दिसंबर 2017 को रखी थी। जैसा कि नाम वीवंडर, जिसका अर्थ घुमक्कड़ होता है, घुमक्कड़ों की टीम जो अलग- अलग जगह घूम- घूम कर कुछ एक स्तर तक समस्याओं के निदान पर विचार कर उसे समाज में एक सार्थक रूप दे। वीवंडर फाउंडेशन संस्था की नींव इस सोच के साथ शुरू की थी कि अपने व्यस्ततम निजी जिंदगी में से मात्र एक घंटे का समय निकाल कर समाज के कुछ समस्याओं का उद्धार करने प्रयास कर सकेंगे, संस्था का कोई भी सदस्य कही भी रहे कभी भी समाज के लिए एक घण्टे का समय निकाल सके। हालांकि संस्था उस सोच को लेकर आज परस्पर 3 वर्षों से आगे बढ़ रही है, संस्था के सभी सम्मानित सदस्यों ने अब इस सोच को देशव्यापी बनाने का प्रयास कर रहे हैं। संस्था का उद्देश्य वातावरण में पक्षियों और उनके आवास का संरक्षण करना है। पक्षी संरक्षण के प्रति हमारी प्रतिबद्धता निरपेक्ष है, हम समानता पर विश्वास करते हैं, और संस्था का ऐसा मानना है कि पक्षी और उनके आवासों का संरक्षण मानव सहित अन्य सभी प्रजातियों को किसी ना किसी रूप में लाभ ही पहुंचाता है (पर्यावरण को सुशोभित करते हैं)। पिछले 3 वर्षों से हम गौरैया संरक्षण के लिए काम कर रहे हैं। हमने लगभग 150 से अलग-अलग स्कूलों और कॉलेजों में जागरूकता कार्यक्रम सम्पन्न किया है, और लकड़ी से बने लगभग 8000 से अधिक पक्षियों के घोंसले वितरित किया हैं। पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में हमने विभिन्न स्थानों पर 16000 से अधिक पौधारोपण किया है। संस्था को गौरैया संरक्षण के लिए राष्ट्रीय गौरव पुरस्कार 2019 और विभिन्न संगठन से 10 अन्य पुरस्कारों से भी नवाजा गया है। लॉकडाउन के दौरान वीवंडर फाउंडेशन ने ऑनलाइन वर्कशॉप का आयोजन किया।संस्था ने ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के माध्यम से घोसले बनाने का प्रशिक्षण दिया। इस प्रशिक्षण के दौरान करीब हजारों लोग जुड़े।  कोरोना लॉक डाउन की वजह से सारे स्कूल और कॉलेज बंद होने की वजह से संस्था ने जीवा नामक पत्रिका निकाला जिसके माध्यम से गौरैया पक्षी बचाओ अभियान किया जा सके।यह पत्रिका ऑनलाइन और सोशल मीडिया के माध्यम से लगभग 10 लाख  लोगों तक पहुंचाई गई।हाल ही में दूरदर्शन द्वारा गौरैया बचाओ अभियान पर एक डॉक्यूमेंट्री भी सूट की गई जिसका प्रसारण 20 मार्च गौरैया दिवस के अवसर पर राष्ट्रीय चैनल दूरदर्शन पर किया जाएगा। मै (गोपाल कुमार- चेयरमैन वीवंडर फाउंडेशन)आप सभी से एक ही निवेदन है कि आप घर में या घर के आस पास एक घोसला जरूर रखें और एक पौधों भी लगाए, और अपने साथ साथ बाकी के अपने साथियों को भी ऐसा करने के लिए प्रेरित करें, ऐसा कर पर्यवारण संरक्षण के मुहिम में अपनी सहभगिता दर्ज करें। वीवंडर फाउंडेशन के अध्यक्ष गोपाल जी से 9648657660 पर संपर्क किया जा सकता है. 

PM मोदी ने साबरमती से शुरू किया 'आज़ादी का अमृत महोत्सव'

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त को देश की आज़ादी का 75वां वर्ष मनाए जाने को लेकर शुक्रवार को साबरमती आश्रम (गुजरात) में 'आज़ादी का अमृत महोत्सव' की शुरुआत की। इस दौरान उन्होंने महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित कर विज़िटर्स बुक पर हस्ताक्षर किए। गौरतलब है, 12 मार्च 2021-15 अगस्त 2022 तक देश के 75-स्थानों पर यह महोत्सव मनाया जाएगा। पीएम मोदी ने कहा कि आज भी भारत की उपलब्धियां सिर्फ हमारी अपनी नहीं हैं, बल्कि ये पूरी दुनिया को रोशनी दिखाने वाली हैं, पूरी मानवता को उम्मीद जगाने वाली हैं। भारत की आत्मनिर्भरता से ओतप्रोत हमारी विकास यात्रा पूरी दुनिया की विकास यात्रा को गति देने वाली है। पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना काल में ये हमारे सामने प्रत्यक्ष सिद्ध भी हो रहा है।  मानवता को महामारी के संकट से बाहर निकालने में, वैक्सीन निर्माण में भारत की आत्मनिर्भरता का आज पूरी दुनिया को लाभ मिल रहा है। पीएम मोदी ने कहा कि आज दुनिया के देश भारत का धन्यवाद कर रहे हैं, भारत पर भरोसा कर रहे हैं। यही नए भारत के सूर्योदय की पहली छटा है। यही हमारे भव्य भविष्य की पहली आभा है।

क्राइम


बहन ने घर से भागकर की थी शादी तो साले ने कर दी जीजा की हत्या 

जबलपुर : जबलपुर (एमपी) पुलिस ने बताया है कि 22-वर्षीय युवक ने जीजा की कुल्हाड़ी से सिर काटकर हत्या कर दी जिसके बाद उसकी बहन ने मायके में कथित तौर पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। बतौर रिपोर्ट्स, आरोपी जीजा का सिर लेकर थाने पहुंच गया था। पुलिस के अनुसार, कपल ने 2 माह पहले अपने-अपने घरों से भागकर शादी की थी। मध्य प्रदेश के जबलपुर से एक रूह कंपा देने वाली वारदात सामने आई है। आरोप है कि एक महिला के भाई ने उसके पति की गला रेतकर हत्या कर दी। इसके बाद महिला ने भी खुदकुशी कर ली। कहा जा रहा है कि आरोपी युवक जिसकी उम्र महज 22 वर्ष है, उसने दोनों की शादी का विरोध किया था। नहीं मानने पर उसने यह खौफनाक कदम उठाया। जबलपुर पुलिस ने बताया कि आरोपी धीरज शुक्ला तिलवारा घाट का निवासी है, जो गुरुवार को उसी इलाके के रहने वाले 35 वर्षीय मृतक बृजेश बर्मन के सिर पर कुल्हाड़ी से हमला कर दिया। इसके बाद वह उसका कटा हुआ सिर लेकर थाने पहुंचा। पुलिस अधीक्षक रवि चौहान ने कहा कि आरोपी को आईपीसी की धारा 302 (हत्या) के तहत पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। सीएसपी ने कहा, “ब्रजेश और आरोपी धीरज की बहन दो महीने पहले अपने घर से भाग गए थे। परिवार के लोगों ने तिलवारा घाट पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई। 26 फरवरी को बृजेश और महिला पुलिस के सामने पेश हुए और बताया कि उन्होंने शादी कर ली है। ब्रजेश के परिवार ने महिला को स्वीकार कर लिया, लेकिन परिवारों के बीच एक पुरानी दुश्मनी के कारण महिला का परिवार उनकी शादी से नाखुश था।" उन्होंने कहा, “दो दिन पहले, धीरज शुक्ला ने अपनी बहन को अपने घर पर बुलाया और कहा कि वे बृजेश के साथ उसकी शादी को स्वीकार करने के लिए तैयार है। गुरुवार सुबह, ब्रजेश और धीरज ने किसी मुद्दे पर लड़ाई की और धीरज ने ब्रजेश पर कुल्हाड़ी से वार कर दिया।” ब्रजेश की पत्नी, जो पिछले दो दिनों से अपने माता-पिता के घर पर रह रही थी, ने छत के पंखे से लटक कर आत्महत्या कर ली। हालांकि, पुलिस मामले की जांच कर रही है कि उसने आत्महत्या की या फिर उसे भी मार दिया गया।  source : हिंदुस्तान 

खेत गई महिला से जबरदस्ती दुष्कर्म, चिल्लाने पर आया देवर फिर 

लोहावट (जोधपुर): लोहावट के बरजासर गांव में खेत में गाय चराने गई विवाहिता को पकड़कर उसका मुंह दबा कर उसके साथ दुष्कर्म करने का मामला सामने आया है. पुलिस के अनुसार बरजासर गांव निवासी एक विवाहिता ने रिपोर्ट दर्ज करवा कर बताया कि रात करीब 8 बजे वह अपने घर के पास खेत में गाय लेने गई थी. उस समय सुरेश कुमार पुत्र हरचंदराम विश्नोई निवासी राजीव नगर बरजासर आया तथा उसे पकड़कर नीचे पटक दिया तथा उसका मुंह बंद कर उसके साथ जबरदस्ती दुष्कर्म किया.  पुलिस ने महिला का मेडिकल करवाया:  उसके बाद उसके चिल्लाने पर उसका पति व देवर दौड़कर आएं. इतने में आरोपी सुरेश वहां से भाग गया. आरोपी सुरेश ने भागते समय विवाहिता को धमकी दी अगर किसी को बताया तो उसे जान से मार देंगे. वहीं पुलिस ने महिला का मेडिकल करवाया तथा मामला दर्ज कर अनुसंधान प्रारंभ किया.

मालिक की पत्नी से बनाना चाहता था संबंध, महिला ने किया इनकार तो... 

ठाणे : महाराष्ट्र के ठाणे जिले में एक युवक ने अपने दुकान मालिक की पत्नी को मौत के घाट उतार दिया. आरोपी युवक उस महिला के साथ यौन संबंध बनाना चाहता था. लेकिन महिला ने इस बात से साफ इनकार कर दिया और अपने पति से उसकी शिकायत करने की धमकी दी.   मना करने पर खफा होकर युवक ने अपने मालिक की पत्नी की हत्या कर दी. हत्या की ये वारदात ठाणे जिले के डोंबिवली की है. जहां मानपाड़ा थाना पुलिस ने 20 वर्षीय आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. वारदात रविवार शाम की है. आरोपी की पहचान गुड्डू कुमार उर्फ ​​रंजन के रूप में हुई है. आरोपी डोंबिवली में एक किराना दुकान कम डिपार्टमेंटल स्टोर पर काम करता था. रविवार को दुकान मालिक ने उसे खाने पर अपने घर बुलाया था.  आरोपी रंजन के दुकान मालिक और उनकी पत्नी ने खाने से पहले ड्रिंक्स लिए और बातचीत करने लगे. अभी ये सब चल ही रहा था कि दुकान मालिक के पास एक अर्जेंट कॉल आ गई और उसे कुछ देर के लिए घर से बाहर जाना पड़ा. घर में पीछे उसकी पत्नी और कर्मचारी रंजन अकेले थे. इसी दौरान रंजन ने अपने मालिक की गैरमौजूदगी का फायदा उठाते हुए अपने बॉस की पत्नी के साथ यौन संबंध बनाने की इच्छा जाहिर की और ऐसा करने के लिए वो महिला पर दबाव डालने लगा.   महिला की बात सुनकर आरोपी रंजन घबरा गया. तभी उसने एक तेजधार हथियार से उस महिला पर हमला कर दिया और उसे चाकू से गोदकर उसकी हत्या कर दी. वारदात को अंजाम देकर रंजन मौके से फरार हो गया. जब उसका दुकान मालिक घर वापस लौटा तो उसने अपनी पत्नी को खून से लहूलुहान हालत में पाया. वो बिना देर किए अपनी पत्नी को लेकर अस्पताल पहुंचा. जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया गया.  

9वीं की छात्रा के साथ 13 दिन में 8 लोगों ने किया रेप, सभी अरेस्‍ट

बलरामपुर : अपनी सहेली के साथ गई 9वीं की छात्रा को किसी अनजाने युवक के साथ जाने की इस तरह की कीमत चुकानी होगी। उसने सोचा भी नहीं होगा।  युवक उसे अपने साथ ले गया और रेप किया. बाद में उसने अपने 8 दोस्‍तों को सौंप दिया जिन्‍होंने अलग-अलग दिन छात्रा के साथ रेप किया. आरोपियों में 6 नाबालिग हैं. शर्मसार कर देने वाली यह घटना छत्‍तीसगढ़ के बलरामपुर जिले की है.  बलरामपुर जिले के राजपुर थाना क्षेत्र में 9वीं कक्षा की छात्रा से दुष्कर्म का मामला सामने आया है. हालांकि पुलिस ने इस घटना के सभी आरोपियों को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है. छात्रा 20 नवंबर को अपने घर से बिना बताए अम्बिकापुर अपनी सहेलियों से मिलने गई थी जहां उसकी मुलाकात गांधीनगर थाना क्षेत्र के एक युवक से हुई और वह उसके साथ चली गई. आरोपी ने पीड़िता के साथ कुछ दिन तक बलात्कार किया फिर उसे अपने दोस्तों को सौंप दिया. पीड़िता के साथ एक-एक कर 8 लोगों ने अलग-अलग दिन बलात्कार किया. लगातार अपने साथ हो रहे दुष्‍कर्म से पीड़िता बदहवास हो गई थी.  राजपुर थाना प्रभारी फर्दीनन्द कुजूर के मुताबिक, पुलिस गिरफ्त में आये 2 आरोपी बालिग हैं जबकि 6 नाबालिग हैं.  पुलिस ने इस मामले में अपहरण की धारा के बाद दुष्कर्म व पॉक्‍सो एक्ट का मामला भी दर्ज किया. इसके साथ ही पुलिस ने घटना के दो बालिग आरोपियों को कोर्ट में पेश किया था जहां से उन्हें न्यायिक रिमांड में जेल भेजा गया है जबकि बाकी बचे 6 नाबालिगों को पुलिस कोर्ट में पेश कर आगे की कार्यवाही करेगी. (साभार)